BookShelf

Friday, 11 August 2017

गांधीजी को पहननेवाले

भारत में बच्चों की ख़पत कितनी और कैसी है यह तो ठीक-ठीक मालूम नहीं मगर उत्पादन भरपूर मात्रा में होता है। हलचल और हरक़तें भी इतनी और ऐसी है कि कई बार लगता है यहां सिर्फ़ बच्चे ही बच्चे हैं। बच्चों की उम्र कितनी भी हो पर वे अकसर कहते पाए जाते हैं- ‘माई पापा इज़ द बेस्ट’, माई मम्मी इज़ बेस्ट मम्मी ऑफ़ वर्ल्ड’, माई दीदी इज़ बैस्ट दीदी’, ‘माई अंकल.....। यही बच्चे जब कहते हैं कि ‘गांधीजी बहुत महान व्यक्ति थे’ तो मैं सोचता हूं कि गांधीजी बेचारे कुछ भी रहे हों पर बैस्ट तो तुम्हारे पापा हैं। अगर तुम्हारे घर-परिवार के लोगों ने ही बैस्ट रहना है तो गांधीजी और लिंकन जी को तो दूसरे-तीसरे स्थान के लिए ही संघर्ष करना होगा। ख़ैर, कोई परेशानी की बात नहीं है, ऐसी विरोधाभासी दलीलों से मुझे आए दिन गुज़रना होता है। कई साल पहले किसी अख़बार की उल्टे पन्ने पर छपी किसी ख़बर में पढ़ा था कि भारत में हर तीसरा आदमी सीज़ोफ्रीनिक है। तबसे ही मैं तीसरा और पहला के बीच फ़र्क पता लगाने की कोशिश कर रहा हूं।

भारत के लोग गांधीजी का बहुत आदर करते हैं, ऐसा मैंने सुना भी है और पढ़ा भी है। देखा आपने होगा। मैंने तो अभी-अभी देखा कि उपराष्ट्रपति के आदरणीय चुनाव में गांधीजी के पोते श्री गोपाल कृष्ण गांधी को हारने के लिए खड़ा किया गया। उससे पहले एक बार श्री राजमोहन गांधी अमेठी से खड़े हुए थे और हार गए थे। ऐसा लगता है कि गांधीजी से ऐसा कोई अनुबंध हुआ था कि जब भी हारने के लिए कोई आदमी चाहिए होगा तो आपके परिवार से काम ले लिया जाएगा। इस तरह देश भी आपको याद रखेगा भले हारने से ही याद रखे। वैसे भी गांधीजी का लड़का या पोता होना चुनाव लड़ने के लिए कोई योग्यता तो है नहीं, बल्कि यह तो सीधे-सीधे वंशवाद ही लगता है। इसमें नयी बात यही है कि वंशवाद का इस्तेमाल हारने के लिए (शायद) पहली बार किया जा रहा है।
(साभार)

मैं गांधीजी से सीधे-सीधे कभी मिला नहीं इसलिए नहीं कह सकता कि उन्होंने लंगोटी पहनना कब शुरु किया था, किया था कि नहीं किया था, परंतु यह पूरे आत्मविश्वास के साथ कह सकता हूं कि गांधीजी के किसी चाहनेवाले को मैंने लंगोटी पहनते नहीं देखा। मैं सोचता हूं कि यह बहुत प्रैक्टीकल साबित हो सकता है कि गांधीजी के सभी प्रशंसक साल में कम से कम कुछ दिन लंगोटी पहनें, इससे उनके फ़ालतू कपड़े ग़रीबों में बांटे जा सकेंगे। कोशिश करके देखना चाहिए क्योंकि ‘कोशिश करनेवालों की हार नहीं होती है’। पर क्या ये लोग लंगोटी पहन पाएंगे, ये तो सर से पांव तक पूरे के पूरे गांधीजी को ही पहने बैठे हैं। शक़ होता है कि ये कोशिश ही तभी शुरु करते हैं जब जीत निश्चित हो या निश्चित कर ली गई हो। जब आपने पूरे के पूरे गांधीजी को ही महज़ प्रतीक में बदल दिया हो तो आपमें और उनमें, प्रतीक के तौर पर ही सही, कुछ तो समानता या सामंजस्य दिखना चाहिए। 

( 4:20 से देखें )
पिछले सालों में भारत में आज़ादी के जो फ़ोटोकॉपी आंदोलन हुए उनसे मुझे गांधीजी के वादीजीयों को समझने में मदद मिली। दो-तीन साल तक तो मसीहा क़िस्म के पत्रकार/एंकर भी इन्हें स्वत-स्फ़ूर्त आंदोलन बताते रहे। आदरणीय विनोद दुआ ने तो अभी पांच-छै साल बाद बताया कि यह आंदोलन मीडिया का बनाया हुआ था। सारे चैनलों पर एक जैसे भजननुमां ग़ज़लें पहले दिन से ही बज रहे थे, सारी टोपियां नई-नकोर थीं और एक ही दुकान से आई लगतीं थीं। मैं काफ़ी दिन तक चिंतनरत रहा कि महापुरुष पैदा होते हैं, बनाए जाते हैं या बनवाए जाते हैं ! 

कहते हैं कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक सदस्य गोडसे ने गांधीजी की हत्या गोली मारकर की। गांधीजी उस वक़्त प्रार्थना करके लौट रहे थे। प्रार्थना में सुनते हैं संघ का भी काफ़ी विश्वास है। वैसे गांधीजी का और संघ का झगड़ा जो भी रहा हो पर इनमें समानताएं भी कई रहीं हैं। जैसा कि मैंने पढ़ा है 
गांधीजी भी वर्णव्यवस्था को मानते थे और संघ भी। गांधीजी गीता पढ़ते थे और संघ तो सुना है गोरखपुर में बेचता भी है। गांधीजी ने विदेशी वस्त्रों की होली जलाई थी और संघ के साथी बाबा रामदेव को आप अपने पसंदीदा चैनलों पर देख ही रहे होंगे जो कह रहे हैं कि विदेशी छोड़ो पतंजलि ख़रीदो। गांधीजी भी स्वराज की बात करते थे और बात तो संघ भी करता है। गांधीजी भी धार्मिक थे और संघ भी। वैसे धार्मिक लोगों की आपस में कम ही पटती है। यहां तक कि गोडसे ने गोली मारने से पहले बाक़ायदा भारतीय संस्कृति-अनुसार गांधीजी को हाथ जोड़कर नमस्कार किया यानि कि सम्मान किया अर्थात् आदर किया तत्पश्चात् तुरंत गोली मारदी। आदर करने के सबके अपने-अपने कांसेप्ट हैं। गांधीजी का अहिंसा का जो कांसेप्ट था उससे बताते हैं कि श्री अंबेडकर के लिए काफ़ी समस्या खड़ी हो गई थी।

भारत में अकसर ज़्यादातर लोग श्री मोहनदास गांधी को ‘गांधीजी-गांधीजी’ के संबोधन से पुकारते हैं। इधर मैंने यह भी सुना है कि इस तरह से ‘जी’ का प्रयोग संघी ही ज़्यादा करते हैं।


मैं किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा हूं। 


मैं कोई इतिहासकार नहीं हूं। एक सोचनेवाला व्यक्ति हूं।


-संजय ग्रोवर
11-08-2017


2 comments:

  1. प्रिय ब्लॉगर,
    हिंदी ब्लॉगर्स को अपना समर्थन देने के लिए गाँव कनेक्शन एक छोटा सा प्रयास करने जा रहा है। उम्मीद है आप इससे जुड़ना चाहेंगे।
    हमारा मानना है कि दुःख, अवसाद और आपसी द्वेष फैलाती ख़बरों के इस युग में किताबों और लेखकों का काम नासमझों को समझ का मरहम लगाने का है और इसके लिए मंच कम नहीं, ज़्यादा होने चाहिए।
    हम रोज़ अपने वेब्सायट में (हर महीने जिस पर अट्ठाईस लाख पेज व्यूज़ आ रहे हैं) एक कॉलम और गाँव कनेक्शन दैनिक अख़बार में रोज़ एक पूरा पन्ना ब्लॉग और सोशल मीडिया को समर्पित करेंगे। इसमें हम आपके ब्लॉग, जिसमें आप किसी सामाजिक व राष्ट्रीय मुद्दे या गांव से जुड़े मुद्दों या कोई नई जानकारी को प्रकाशित करना चाहेंगे। इस तरह हम आप लेखकों का लिखा रोज़ लाखों नए पाठकों तक पहुँचा पाएँगे।
    हम आपके लेख के साथ ब्लॉग का लिंक जोड़ेंगे इससे आपके ब्लॉग के पाठकों में भी इजाफा हो सकेगा।

    हमारी दो सदस्यीय टीम बना दी गयी है। अगर आप हफ़्ते दर हफ़्ते इस प्रयास का हिस्सा बनना चाहें तो:
    अनुशा मिश्रा 8393-000032
    शेफाली श्रीवास्तव 96504 77925
    से फ़ोन पर या featuresdesk@gaonconnection.com पर सम्पर्क कर सकते हैं।
    छपने के लिए अंश ईमेल के माध्यम से भेजें और कोई सुझाव हो तो पूरे अधिकार से बताएँ।
    सादर

    ReplyDelete
  2. How To Remove Virus Without Antivirus ? it”s easy

    http://eksacchai.blogspot.com/2017/08/how-to-remove-virus-without-antivirus.html

    ReplyDelete